Ration Card

बिहार भूलेख नक्शा, जमबंदी, खसरा खतौनी, भू नकल ऑनलाइन कैसे चेक करें

यदि आप उन लोगों में से हैं जो बिहार में रह रहे हैं या बिहार की किसी जमीन या संपत्ति को खरीदने या बेचने की योजना बना रहे हैं, या  बिहार मे अपनी जमीन के बारे कुछ भी जानना चाहते है तो आपके लिए यहाँ कुछ ऐसा है जिसे आपको अवश्य देखना चाहिए क्योंकि यह आपको संपत्ति मे होने वाली धोखाधड़ी से बचने मे बहुत मदद कर सकता है। आप अपने किसी जानने वाले या प्रॉपर्टी एजेंट से संपत्ति खरीद सकते हैं, लेकिन खरीदने से पहले आपको जमीन के बारे मे पूरी जानकारी स्वयं प्राप्त कर लेनी चाहिए, आप सोच रहे होंगे कि आपको संपत्ति की पूरी जानकारी कहां से मिल सकती है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं की आप Online बिहार में किसी भी जमीन का कोई भी रिकॉर्ड कैसे देख सकते हैं, जिससे आपके समय और धन दोनों की भी बचत होगी |

इस बात को बिहार सरकार ने ध्यान में रखते हुए बिहार के राजस्व एंव भूमि सुधार विभाग द्वारा एक पोर्टल लॉन्च की है, BiharBhumi भूलेख नक्शा 7/12 के तहत, बिहार की राज्य सरकार ने जिलों के भूमि रिकॉर्ड उपलब्ध करा रही है। जिसके जरिए आप बिहार के ग्रामीण और शहरी क्षेत्र की भूमि का रिकॉर्ड असानी से प्राप्त कर सकतें है। इसकी पूरी जानकारी आपको इस लेख मे दी जाएगी, इस प्रक्रिया को समझने में आपको केवल कुछ मिनट लगेंगे और इसे पढ़ने के बाद आप किसी और को भी सिखा सकते हैं कि वह बिहार में संपत्ति के विवरण की जांच कैसे कर सकते हैं।

भारत सरकार के डिजिटल भारत मिशन के अनुसार केंद्र और राज्य सरकारें अब सभी प्रकार के जमीन के रिकॉर्ड को डिजिटल रूप में परिवर्तित कर उनकी जानकारियों को ऑनलाइन उपलब्ध करवा रही है| ऑनलाइन उपलब्ध भूमि रिकॉर्ड की कॉपी में आपको भूमि धारक का नाम, क्षेत्रफल, खाता संख्या, भूमि वर्गीकरण, तहसील, गाँव, पट्टेदार का नाम सहित जमीन के बारे मे अन्य कई ब्योरे प्राप्त किये जा सकते है|

भूलेख किसे कहते हैं ?

भूलेख दो शब्दों से मिलकर बना है पहला भू और दूसरा लेख यानी भू + लेख भू का अर्थ भूमि और लेख का अर्थ लेखन/कागजी लिखवाई है. Bhulekh को हर राज्य में अलग-अलग नामों से भी जाना जाता है. जैसे भूलेख, Records of Rights, भू अभिलेख, जमाबंदी, खसरा, खाता- खतौनी, भूमि-अभिलेख, भूकर अभिलेख, जमाबंदी नक़ल, खतियान/मौजा, भूमि का ब्यौरा, जमीन के कागजात, जमीन का नक्शा, खेत के कागजात, खेत का नक्शा खाता खातून पट्टा आदि.

कहाँ जरूरत पड़ती है इन काकजातों की

भूलेख में आपकी ज़मीन का विवरण यदि जमीन की रजिस्ट्री करानी हो, उस पर किसान क्रेडिट कार्ड बनवाना हो, आय प्रमाण पत्र (Income Certificate), जाति प्रमाण पत्र (Caste Certificate), भूमि के विभाजन के समय, जमीन से सम्बंधित कार्यों में या फिर कोई सरकारी योजना का लाभ लेना हो तो इन काकजातों की आवश्यकता पड़ती है. यह ककजात जमीन के वो Documents हैं जो न सिर्फ कई योजनाओं का लाभ दिलाने में आपकी सहायक होते हैं बल्कि आपकी जमीन पर आपके मालिकाना हक का भी सबूत होतें हैं, लेकिन आमतौर पर यह ककजात लेने के लिए लोगों को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता था, मगर अब इन सब चीजों से छुटकारा मिल चूका है|

बिहार सरकार का वेबसाइट लॉन्च करने का मकसद

बिहार के राजस्व विभाग द्वारा शुरू की गई इस आधिकारिक वेबसाइट का एक मात्र मकसद यह है, की राज्य का कोई भी व्यक्ति ई-धरा या ई-ग्राम केंद्र पर बिना किसी प्रकार का शुल्क अदा किए अपने भूमि के रिकॉर्ड की ऑनलाइन जांच कर सकते हैं। बिहार भूमि रिकॉर्ड के तहत कहीं भी आपको भूमि के स्वामित्व, भूमि का क्षेत्रफल, भूमि का प्रकार आदि का पूरा विवरण मिल जायेगा।

बिहार भूलेख ऑनलाइन कैसे देखें

बिहार सरकार सभी प्रकार की भूमि संपत्ति विवरण ऑनलाइन अपने नागरिकों को प्रदान करता है। बिहार राज्य सरकार के अधीन भू-प्रशासन के मुख्य आयुक्त ने BiharBhumi की एक वेबसाइट को बनाया हैं। जहां कोई भी अपनी सुविधा के आधार पर, अपने भूलेख, खाताधारक, खाता खतौनी, जमाबंदी और भूमि मैप के अनुसार ऑनलाइन भूमि रिकॉर्ड की जानकारी प्राप्त कर सकता है।

बिहार सरकार द्वारा BiharBhumi जारी करने के लाभ

BiharBhumi वेबसाइट के कुछ प्रमुख फायदे और विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

बिहार मे अपना खाता ऑनलाइन देखने का तरीका

बिहार मे जमबंदी पंजी ऑनलाइन देखने का तरीका

दोस्तों, यहाँ हमने आपको बिहार भूमि रिकॉर्ड की ऑनलाइन विवरण के बारे में पूरी जानकारी प्रदान करने की पूरी कोशिश की है। यदि आपको यह लेख पसंद आया है तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को जरूर शेयर करें। अगर आपको इस पोस्ट से सम्बंधित कोई प्रश्न पूछना है तो नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

Exit mobile version